घर की पुत्रवधु करती हैं ये पांच काम, वह हमेशा रहता है मां लक्ष्मी का वास, जानें कोनसे हे ये काम

0
139

दोस्तों हमारे समाज में घर की बेटी और दुल्हन को घर की लक्ष्मी माना जाता है। इतना ही नहीं यदि कोई युवती विवाह कर अपने ससुर के पास चली जाती है यानि जब घर में कोई नया योग आता है तो उसके शुभ कदम गिरते ही ग्रहों और नक्षत्रों का सकारात्मक प्रभाव देखने को मिलता है।

घर में खुशियों का माहौल रहेगा मां की सारी नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है। लेकिन, अगर कोई महिला नियमित रूप से कुछ आदतों का पालन करती है, तो उस घर में हमेशा मां लक्ष्मी का वास होता है।

हम सभी जानते हैं कि जिस घर में मां लक्ष्मी रहती हैं, वहां कभी भी पैसों की कमी नहीं होती है। बरकत उनके घर में रहती है। यह आदत बहुत छोटी है लेकिन बहुत शुभ होती है। तो आइए जानते हैं वो कौन सी पांच आदतें हैं जिनके अनुसार घर की महिलाएं अगर व्यवहार करती हैं तो उनके घर में मां लक्ष्मी का वास अवश्य होता है।

पहली आदत है साधना करना या नियमित पूजा करना। जिस घर में घर की दुल्हन नियमित रूप से सुबह-शाम पूजा करती है, वहीं भगवान का नाम याद करती है

और भजन-कीर्तन करती है। उनका घर सुख-समृद्धि से भरा रहता है। इसलिए महिलाओं को नियमित रूप से सुबह और शाम घर पर ही पूजा करनी चाहिए।

एक और आदत है अपने बड़ों का सम्मान करना। सामान्य तौर पर, चाहे पुरुष हो या महिला, सभी को अपने से बड़े व्यक्ति का सम्मान करना चाहिए। लेकिन, घर की दुल्हन जो ईमानदारी से बड़ों के साथ-साथ बड़ों का भी सम्मान करती है, वह घर स्वर्ग के समान हो जाता है। इस घर में कभी भी कोई विवाद नहीं होता है, सकारात्मक ऊर्जा का निर्माण होता है और घर में सुख-शांति का वातावरण बना रहता है और इस घर में स्वयं माता लक्ष्मी का वास होता है।

तीसरी आदत है नियमित रूप से तुलसी और सूर्य को जल अर्पित करना। तुलसी कठे पर “m तुलसी नमामि नाम:” मंत्र का जाप करते हुए जल चढ़ाने वाली दुल्हन के घर में मां लक्ष्मी की असीम कृपा बरसती है।

इसके अलावा, यदि घर की दुल्हन “O सूर्याय नाम:” मंत्र का जाप करते हुए सूर्य को जल अर्पित करती है, तो उनके घर के सदस्यों के भाग्य में भी सूर्य के समान चमक होती है।

चौथी आदत यह है कि जिस घर की दुल्हन दान में विश्वास करने वाली और दयालु स्वभाव की होती है उस घर से मां लक्ष्मी बहुत खुश होती है और मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त करने से भी घर की समृद्धि में वृद्धि होती है।

इतना ही नहीं पत्नी के सहयोग से उसे 100 गुना अधिक फल मिलता है। इसलिए जब भी घर की दुल्हन कोई पुण्य कार्य कर रही हो तो घर के सदस्यों को उसे रोकना नहीं चाहिए।

इसके बाद विनम्र व्यवहार होता है। जिस घर में दुल्हन का स्वभाव विनम्र होता है, वहां हमेशा सकारात्मकता बनी रहती है। उस घर से माता लक्ष्मी बहुत प्रसन्न होती हैं और माता लक्ष्मी इस घर में सदा निवास करती हैं। लेकिन अगर घर की दुल्हन यहां नहीं है, यानी अगर उसे ईर्ष्या या नफरत है,

तो घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है। ऐसे घर में कभी भी मां लक्ष्मी का वास नहीं होता है, इसलिए महिलाओं को इस आदत से छुटकारा पाना चाहिए और यथासंभव विनम्र व्यवहार करना चाहिए। तो दोस्तों जिस घर में घर की पत्नी ने इन पांच आदतों को संस्कारित किया है उस घर में मां लक्ष्मी का वास होता है, लेकिन साथ ही उस घर के लोगों का हर कार्य भी सफलतापूर्वक पूरा होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here